AAPKI JIMMEDARI

AAPKI JIMMEDARI

Wednesday, 10 January 2018

दौना पत्तल व्यवसाय स्थापित कर बहुत खुष है सागर

सफलता की कहानी

दौना पत्तल व्यवसाय स्थापित कर बहुत खुष है सागर

खण्डवा 10 जनवरी, 2018 - प्रदेष सरकार द्वारा प्रारंभ की गई स्वरोजगार योजनाओं की मदद से  बेरोजगार युवाओं के जीवन में खुषहाली आ रही है। इसी क्रम में अन्त्यवसायी सहकारी विकास समिति द्वारा संचालित मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना की मदद से खण्डवा के रामनगर निवासी श्री सागर कोमल प्रसाद मेहरा ने दौना पत्तल व्यवसाय स्थापित किया है, जिसके लिए उन्हें 5 लाख रूपये की मदद मिली, जिसमें से 1.50 लाख रूपये अनुदान स्वरूप प्राप्त होने से केवल 3.50 लाख रूपये ही सागर को चुकाना है। दौना पत्तल का अपना व्यवसाय प्रारंभ कर सागर 10600 रूपये प्रतिमाह की किष्त नियमित रूप से जमा कर रहा है। इस सबके बावजूद लगभग 20 हजार रूपये आसानी से शुद्ध आय उसे प्राप्त होने लगी है, जिससे सागर बहुत खुष है।
सागर बताता है कि उसने पॉलीटेक्निक डिप्लोमा की पढ़ाई की है। जब वह फाईनल ईयर में था तभी उसके पिताजी अचानक छोड़कर चले गए, जिससे परिवार पर अचानक भीषण संकट आ गया। ऐसे में सबसे पहली जरूरत रोजगार की ही थी। इसलिए उसने पढ़ाई बीच में छोड़कर स्वरोजगार स्थापित करने के लिए अपने दोस्तों से सलाह ली तो किसी ने उसे बताया कि अनुसूचित जाति वर्ग के युवाओं को स्वरोजगार स्थापना के लिए अन्त्यवसायी समिति द्वारा मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत मदद दी जाती है, जिसमें से लगभग एक तिहाई राषि अनुदान स्वरूप प्राप्त होती है। सागर ने अन्त्यवसायी कार्यालय जाकर आवेदन दिया तो उसका दौना पत्तल व्यवसाय स्थापित करने के लिए प्रकरण स्वीकृत हो गया और बैंक ऑफ इण्डिया सिविल लाइन शाखा द्वारा 5 लाख रूपये की मदद उसे दिलाई गई, जिससे उसने अपने भाई जयंत मेहरा के साथ दौना बनाने की दो मषीने खरीदी व कच्चा माल इंदौर से लाकर अपना व्यवसाय प्रारंभ किया। सागर बताता है कि मात्र 3-4 माह पूर्व प्रारंभ इस व्यवसाय में अभी लगभग 20 हजार रूपये की बचत हर माह आसानी से हो जाती है। सागर ने बताया कि वह कुछ समय में पत्तल निर्माण के लिए मषीन लाकर अपने व्यवसाय को और बढ़ायेगा, जिससे उसकी आय और बढ़ेगी। अपने इस व्यवसाय से सागर अपने परिवार का अच्छी तरह पालन पोषण करके बहुत खुष है। 

No comments:

Post a Comment